गुरुवार, 24 दिसंबर 2009

kavita


Lqkuks rks---------
Pkaknuh jkr esa

ml ?kM+h
rqeus tks ‘kCn
xquxquk;s Fks esjs gksBksa ij
oks fFkjdrs gSa
vkt Hkh
esjs thou esa]
 ml y; esa
xwaFk dj jp Mkyk gS
 eSaus bd  lalkj
 ftlesa ihrh gwa
izse I;kyk
fur gh
lquks rsk fiz;!!!
--------fdj.k jktiqjksfgr fufryk




बुधवार, 23 दिसंबर 2009

लघुकथा




  ljoaV ¼y?kq dFkk½  


        Ldwy ls vkrs gh eksgu dks irk pyk fd nsoth nkrk vius csVs ds
ikl ls 'kgj ls ykSV vk;s gSa ]og muls feyus ds fy;s mrkoyk gqvkA mudk
csVk fd'ku] eksgu dk cpiu dk lkFkh gSA
fd'ku vc fnYyh esa cgqr cM+k iz'kkldh; vQlj gSA dkQh lkyksa ckn fd'ku
us vius firk dks vius ikl cqyk;k FkkA mlds D;k BkB&ckV]jkSc&nkc gS ;gh
tkuus dh mRlqdrk mls >V ls nsoth nkrk ds ikl [khap ykbZA
 iz.kke dj og vius ;kj vkSj 'kgj ds gky pky iwNus yxk A vis{kk ds
foijhr nkrk dqN mnkl ls yxsA csVs dh   [kq'kgkyh ls Qwys ugh lekus okys
cgqr cq>s ls yxsA cgqr lh ckrksa ds mUgksaus tokc fn;s fQj ,d xgjh n`f"V
eksgu ds psgjs ij Mky dj cksys
    ^^----vcS Fkwa euS vks crk^d ljoaV eryc dkabZ OgS \--** og mudh euksfLFkfr
 ls ?kcjk x;kA mnkl rks os igys gh yxs FksA ysfdu ;s loky mUgsa D;ksa iwNuk
iM+ x;kA vuk;kl gh og lgh vFkZ Nqik dj cksyk
    ^^ bafXyl esa ljoaV eryc ckiw OgSA i.k --i.k--vki vks D;wa iwfN;ks \ dkabZ dkj.k gS\**
    ^^----fdluks csVks vkijS nksLrka uS Egkjs lkaeh blkjks dj*j d;ks ,s ljoaV gSA
---m.kh c[kr EgS lksp fy;ks gks*d ruS b.kjks eryc t#j iwNwayk-------i.k csVk Fkwa bZ euS
VkG j;ks gS------ vxj vks bZ eryc OgS rks nksLr jS ckiw uS nksLr ij.kke  rks djrk-
bZ OgSyk  if<+;k fyf[k;ak jS lekt esa-----------i.k ljoaV uS-------** #a/ks xys ls cksys
vkSSj nwj dgha ns[kus yxs A
   fdadRrZO;foew<+ lk eksgu nkrk ls utjsa  u feyk ldk A mldh vka[kksa esa
vrhr ds dbZ n`'; ukp mBsA jkr &fnu fngkM+h&etnwjh esa [kVrs nkrk dh vka[kksa
esa ,d gh liuk Fkk fd fd'ku ;ksX; cu tk;s vkSj lc lq[k ls jgsa A vk/kk
isV jgdj Hkh fcuk Fkds  fd'ku dks i<+k;kA oks vkt fdrus VwV x;sA
og fu%'kCn mB x;kA -----fdj.k jktiqjksfgr fufryk




बुधवार, 16 दिसंबर 2009

कविता

------------iq#’k
                                                gj fj”rk
le; ds lkFk
tSls
L=h iq#’k dk vkoj.k
vks<+ ysrk
varr ogh lR; gS tSls ]
cpiu esa
eLr f[kyf[kykrs HkkbZ cgu
nksLrh dk ?kwaV ihdj
cM+s gksrs
vkSj
/khjs /khjs HkkbZ iq#’k cu tkrk
 vkSj cgu L=h!
 ikcanh  ltxrk dh pknj rku nh tkrh
cgu ij
vkSj og lge tkrh !
mldk I;kjk HkS;k
vc iq#’k HkS;k gS
mldh lksp vc cgu L=h dh j{kk dh  gS
vc og f>>drh gS
HkS;k iq#’k ls
viuh ckr dgrs gq;s
dgha Vksd u ns
fd cgu !
/;ku ls ckgj fudyk djksA+
yM+dsokyksa dk vkuk lqudj
HkS;k rS;kfj;ksa esa tqVk gS
og lksprh
 mldk HkS;k nksLr gh D;wa u jgk
iq#’k  D;wa cu x;k\
eka csVk
 nskuksa gh
nskuksa dh
nqfu;k
vkSj dsUnz Hkh
gjne eka dsk ryk”krk
vkxs ihNs ?kwerk 
uUgk
eka!  eka !cl eka!
gj iy eka gh pkfg;s
eka cyS;k ysrh
mldh gj iqdkj ij
vkSj rt nsrh gj
bPNk dkeuk
ml Loj ds cfynku]
nksLrkas  ds lkFk
Fkddj pwj gksdj
Hkkstu ds fy;s
eka dks iqdkjrk
og tSls mM+ dj vkrh ]
u;k u;k mM+uk
lh[k jgs
 csVs ds fy;s csgn fparkrqj
csVk! csVk! cl csVk!
/;ku j[kuk viuk rqe
vksQQksg ! eka vki Hkh cl
eaS cPpk ugh gwa
Bqud dj fp<+ tkrk
mls tkus D;k
dqN ;k lc dqN gh  
nh[k tkrk  
ml ,d okD; esa
vkSj f>>d dj
ihNs gV tkrh
eka
vius iq#’k csVs ls
---------fdj.k jktiqjksfgr fufryk

मंगलवार, 15 दिसंबर 2009

कविता



jlksbZ

Lkiuk gksrk gS gj x`fg.kh dk
viuh jlksbZ ltkuk
>kM+ iksaN dj tatkyksa dks
og izfo’V djrh gS
bd egRoiw.kZ lkezkT; esa 
tks /kqjh gS reke lH;rkvksa dh
vkpkj fopkjksa dh ]
jax fcjaxs /kqys fMCCksak esa Hkjh gksrh gS
“kqHksPNk dh Hkkouk
gj fMCck tSls I;kj dh iksVyh gks
mldk
,d eeRo Hkjh n`f’V Mky
 NEe dh Ned ls NkSad nsrh gS
ogh [kq”cw c;kj dh Hkkafr mM+k ys tkrh gS reke
foinkvks dks]
 gj fMCcs esa gh tSls tknw gks
tks [kksyrs gh Nk tk;sxk
leLr nq;ksZxksa ij]
gj crZu ij Lusg dh Nki gskrh gS
tks igaqprh gS [kkus okys dh
 maxfy;ksa dh iksjksa dks Nwdj
jx jx esa vkSj
vkRek dks iku djkrh gS
laLdkjksa vkSj lqfopkjksa dk
flafpr gksrh gS ;gah ls
lpeqp gh ekuo ds
oa”k o`{kksa dh [ksrh]
tks lqjlksbZ dh Lusg Hkjh xa/k ls
u xqtjk gks
vNwrk gks
vo”; gh vekuoh;
vkradoknh gksxsa!!!!!
 fdj.k jktiqjksfgr fufryk




सोमवार, 14 दिसंबर 2009

ग़ज़ल


ग़ज़ल
टूट कर गिरने से क्या होगा
आशा का दामन थामना होगा
रास्ते सदा न साफ नजर आएगें
कभी धुंध से भी सामना होेगा
किनारे बैठे ही क्या सोचें
पानी में पाँव डालना होगा
तन का ही मैल कितना धेायें
अंतस को फिर खंगालना होगा
जान चुके दुनिया को फिर भी
साँप को दूध पिलाना होगा
मन से चाहे दूर हो कितने
प्रकट में हाथ मिलाना होगा
भले कड़वाहटें हो रिश्तों में
फिर भी साथ निभाना होगा
दरारें कितनी हो दीवार में
बाहर लिपा दिखाना होगा...............किरण राजपुरोहित‘नितिला’

शनिवार, 12 दिसंबर 2009

(लघु कथा)






                  gy  ¼y?kq dFkk½
      fu’kk losjs losjs dke dh Hkkxk nkSMh+ ds lkFk gh euq dks Ldwy ds fy;s rS;kj gksus ds funsZ’k fn;s tk jgh Fkh ysfdu jkst ds foijhr og dke eas rRijrk u fn[kk dj mldk /;ku yxkrkj njokts dh vksj Fkk tks ckgj dh rjQ [kqyrk gSA fQj [kqn gh tYnh ls rS;kj dj mldks dks cl esa fcBk;kA dqN {k.kksa ckn gh cl vk¡[kksa ls vks>y gksus yxhA fu’kk tSls gh ?kj dh rjQ iyVh rks ik;k fd ,d tksM+h vk¡[ksa Hkh cl dh ihB dk ihNk dj jgh gSA mu vk¡[kksa okys psgjs esa tkus D;k Fkk fd og dqN {k.k cl n[krs gh jg xbZA ,d ykylk lh mx vkbZ Fkh ml rdrs psgjs ijA
  ^^,s!Nksdjs! b/kj vkA mBk ;s vkSj m/kj Mky--**
ml Lkkr &vkB lky ds yM+ds us Fkkeh gqbZ rxkjh uhps j[kh vkSj ek;wl lk /khjs&/khjs mlesa bZaVsa Hkjus yxkA gkFk ;a=or~ dke dj jgs Fks ysfdu mldk eu rks tSls cl ds ihNs gh vVdk jg x;k FkkA ckj&ckj cl dh fn’kk esa ns[k tk jgk FkkA
     Rkks  vc rd ;s euq dks Ldwy ds fy;s rS;kj gksrs ns[k jgk Fkk! vkSj euq Hkh viuh gh mez ds yM+ds dks Ldwy u tkdj mlds ?kj ds lkeus cuus okys caxys esa  bruh losjs] lnhZ esa etnwjksa dh rjg ;gk¡ dke djrs ns[k u tkus fdu lkspksa esa xqe Fkk! fu’kk dh vk¡[kska esa ueh mrj vkbZA tkus D;k etcwjh jgh gksxh ek¡&cki dh fd i<+kus dh ctk; deBs dk bruk eqf’dy dke djus Hkstuk iM+kA
 ykylk Hkjh os vk¡[ksa fnu Hkj ;kn vkrh jgh fu’kk dksA gljr]ek;wlh esa Mwcs ml cPps dh D;k enn d#¡\ dqN #i;s ns nw¡ ;k Ldwy esa HkrhZ djk yw¡ ;k dqN vkSjA enn djus dk ,d vkosx mBk ysfdu fu’kk tkurh gS fd ges’kk lgk;rk djrs jguk vkSj {kf.kd tks’k esa cgqr QdZ gksrk gS A fQj bl eagxkbZ esa nks cPpksa dks gh i<+k ikuk eqf’dy gS----A
  ‘kke dks cPpksa ds [ksyus ls cgqr ‘kksj epk jgrk cjkens esaA vkt dqN ‘kkafr lh yxh rks mRlqdrko’k cjkens esa >k¡dkA euq dk cSx [kqyk iM+k FkkAml cPps ds gkFk esa isafly idM+h gqbZ Fkh vkSj mlh ds gkFk dks idM+ dj euq dkih esa  fy[kok jgk Fkk--^v-- ls vukj---! 



गुरुवार, 3 दिसंबर 2009


दर्द............
भीतर बाहर
फर्क मिलते है
केवल केवल
 दर्द मिलते है,
आतताइयों के
 ठहाके गूंजते
मासूम चहेरे
जर्द मिलते है,
घािटयां डूबी
खौफ सन्नाटे में
आंखें में लहू
गर्म मिलते है,
राजनीित के
मीठे शब्दों में
शाितर तीरों से
हर्फ मिलते है ,
मुिश्कल में किससे
उम्मीद रखे
 अपने भी
खुदगर्ज मिलते है!!!!!!!!!!
...........किरण राजपुराेिहत ििनितला


Okg------xkao-----


gfj;kys [ksrks ds chp
og vksl dh cwan lk
fueZy fu’iki lehj ls eyf;r
og xkao --
uhys vkleka rys
 >d eksrh lk
 eLr c;kj ls lqokflr
 fjtxs ds dldlh Qwyksa dh
  vks
dyh Hkzejksa ds ny ls xqfEQr
og xkao--
 vjV dh /kqu ij fFkjdrk
?ksM+ksa dh ekyk ls jgV lqlfTtr
pkSgVs ds ?ksjnkj cjxn rys
PkkSiky dk Bgkdk
;qok cky cqtqxZ dFkkvksa ls fogflr
og xkao --
dSjM+s ij pgdrh Hkskj fpjS;k
xjM+ ejM+ og fcykSus dk Loj
vkjrh uxkM+s
og xkao--
fFkjdrs pax dh Fkki ij
?ksj ?kwesj yky lkQs /kksrh lQsn
 ekstjh dh rky xSj esa fFkjfdr
 Ck.kh B.kh if.kgkfju ds ?kaw?kV dh vksV
 larksfy;k xqYyh MaMs daps NqikNqih
dqjykrs cNM+s jaHkkrh xk;ksa ls xks/kwfyr
og ---esjk xkao
 lpeqp oSlk gh gS vc rd
 ;k /keZ jktuhfr esa HkVd
fodkl ds uke ij jg x;k
viusiu jfgr
 cSj oSeuL; dk v[kkM+k
’kgjuqek pdkpkSa/k ls paqf/k;krh
Ekkuo cLrh!!!!!!
----------fdj.k jktiqjksfgr fufryk

गुरुवार, 26 नवंबर 2009

किवता

"कसक "

अप्रतिम सौंदर्य से इठलाती है फुलवारी
रक्ताभ पंखुडियों से सजी है जिसकी क्यारी क्यारी
पूर्ण सुरभित है माहौल महक से
फिर क्यूँ कराहे कोई तड़प से .....!

ज़रा सुनूँ नाद यह किसका ?
दर्द भरा रुदन यह जिसका
रुदन में जिसके तीखा है स्वर
यह तो एक पुष्प है बर्बर ...

करे सवाल वह गुलाब से
क्यूँ करे तू छलनी इन काँटों से ?
गुलाब कहे तू कर ले शिकवा
हक़ लिया है तुने इसका

व्यथा अपनी कहूँ मैं किससे
काँटों भरा है जीवन जिसका
छलनी मैं भी तो होता हूँ
अपने ही जीवन अंशों से
पर दूर कभी न जाऊंगा
डरकर के इन दंशो से...

छिपा मर्म जो बतलाया
एक आंसूं भी संग हो आया
आंसू भी तो कसक थी दिल की
शबनम बनकर संग हो गयी
सहर्ष साझेदार हो गयी
मादकता के अनुभव की ....

रविवार, 25 अक्तूबर 2009



सािहत्य अमृत पित्रका अक्तूबर अंक में मेरे रेख्ािचत्र प्रकािशत

सािहत्य अमृत पित्रका अक्तूबर अंक में मेरे रेख्ािचत्र प्रकािशत
www.sahityaamrit.com

प्रकािश्त रचना

http://www.lakesparadise.com/madhumati/show_artical.php?id=1280

मधुमती में मेरी कहानी ‘‘छंटा कोहरा’’


गुरुवार, 8 अक्तूबर 2009

मेरी ताजा कृित

मेरी ताजा कृित 
ये तैल चित्र ‘दीप ज्याेित ’ मािसक पित्रका के पच्चीस वर्ष पूरे होने के उपल्क्ष् में नवम्बर में आयाेिजत होने वाले समारोह में लगाया जासेगा।
जहां तमाम सािहतयकारों का आगमन होगा तथा पुस्तकों की विशाल प्रदर्शनी भी लगाई जासेगी।


रोज शाम ...........................
जाने क्यूं
रोज शाम
सूरज धरती के पीछे
दुबकने लगता है,
खुशी से गले मिलते है
या चुपके से
सुबकने लगता है,
दिुनया की रंगत
दिन भर देख
बस निढाल हुआ जाता है,
छुपकर रिश्तों के
मायने
समझने लगता है,
चांद को
रात के पहरे पर बिठा
जरा दम लेता है,
तारों जड़ी चूनर ओढ
धरती चली
जुगनु की रुनक झुन पर

भोर के हाथ
चांदनी की पाती भेज
सहलाया क्ष्ािितज पर,
सितारों को उंघता देख
सोच में डूबा अंधेरा,
यूं न अधीर हो
जगद्त्राता!!
जीवनाधार!!
नितिला की प्रतीक्षा में है
समस्त प्राणी
रिष्मयों के रथ पर हो सवार
अब आओ !!.............
किरण राजपुराेिहत िनितला

नितिला -सूरज की पहली किरण




सोमवार, 5 अक्तूबर 2009



छू कर मेरे मन को.....
-जब कोई प्िरतभाशाली हस्ती इस दुिनया में आती है तो उसे इस लक्षण से पहचाना जा सकता है कि   सभी मूर्ख लोग उसके विरुद्ध उठ खड़े होते है।
-इंसान अभाव में जितना कष्ट नही पाता जितना फिजूलखर्ची से।
-शीघ्रता करना सफलता के मौके को खोना ।
-ताजमहल समय के गाल पर थमा हुआ आंसू है।- रिवन्द्रनाथ टैगोर



शनिवार, 3 अक्तूबर 2009



छू कर मेरे मन को.....
-तमाम विकृितयों और विसंगितयों के बावजूद हमारा गणतंत्र हमारी जनता अैर हमारे सामािजक , मानवीय सांस्कृितक मूल्यों पर टिका है।
-एक शिक्षक की गेंडें की खाल होनी चािहये । सम्मान के फूल और अपमान के तीरों का प्रभाव शिक्षक की खाल पर नहीं होना चािहये।
-प्रेम एक साथ एक को अिधकार औेर दूसरे को समर्पण किस प्रकार दे देता है।
-जो शिक्त अपने में नही होती उसे दूसरे में देख कर मनुष्य केा आश्चर्य हेाता ही है। आश्चर्य से मोह पैदा होता है।
-सभी लोग करारों के खुद को अचछे लगने वाले अर्थ करके दुनिया केा खुद केा अैार भगवान केा धेाखा देते है।
-प्राचीन काल में विद्यार्थी ब्रहमचारी ही कहलाता था।


सोमवार, 28 सितंबर 2009


एक शाम..............

एक शाम
यूं ही
चल रहा था
दिन
अपनी रफतार से
ढल रहा था
पगडंिडयेां की
दूर्वा
झुक रही थी
सामने एक साया
चला आ रहा था
बेदाग नजरें
वहीं जाकर
टंक गयी
वो साया
दिल में
उतर रहा था
कदमों में
मासूम थकन थी
गालों से
कानों तक
दहक रहा था
एक बार
मुड़कर
देख लिया जरा
दिल में
दूजा चेहरा
उतर रहा था
एक दूजे में
या
एक में दो दिल थे!
कैसा अजब माजरा
बन रहा था
सपनों की
हकीकत में
हाथ डाले थे
बिन आग
बिन तपन 
छाला पड़ रहा था!!
ििकरण राजपुराेिहत ििनितला




शनिवार, 19 सितंबर 2009





पहली बार ........ 
प्रथम स्पन्दन
जाने क्यूं आज
तेरा तकना
अच्छा लगा
जैसे सृिष्ट को
नई उमर लग गई हो
 समस्त उपवन ने
 जैसे नई देहरी में
कदम रखा हो
इन अनुभूितयों का
हदय में पहली बार
अंकुर फूटा
तुम्हारी उस
 सहज छुअन ने
 जैसे
मन उपवन
महका दिया
रोम रोम नयन बन
 तुमकेा निहारने को
आतुर हुआ
लेकिन
तुम्हारी अपलक दृिष्ट
और उसमें...........
!!!!!!!!!!!!!
संकोच का भार
ये पलकें न सह सकी
 झुक ही पड़ी
 न चाहते हुये भी,
लाज का रंग
मोहक लगता है !!
तुमने ऐसा ही कहा
था,
इस रंग की खुमारी
तुम्हारी सुर्ख आंखांे में
 छाती हुई
 मुझे ही चुराती रही!!!!!!!
जीवन का
वो मधुर स्पंदन
धड़कन से
वेा पहला पिरचय,
वे पल
आज भी
वैसे ही धड़कते है
मधुर स्मृित के पृष्ठों पर
........ििकरण राजपुराेिहत ििनितला






गुरुवार, 10 सितंबर 2009

लुकािछपी!! लुकािछपी!!!

नदी
स्ूखी नदी में बना
 यह घर
छाती में फफोला,
सीने में
फांस की तरह,
गर्दन तान कर
ठठाकर पैर पसारे हुये को,
 रोज देखती है
वह स्वयं को
निरंतर गंिदयाती ,
मसोस कर
उफ!
कर जाती है
और
स्वयं में ही
रह जाती है छटपटाकर ,
ििफर भी
सब कुछ भूल कर
ठिठकी सी रह जाती है
बच्चों की किलोल से !
उस घर का प्िरतरुप
कुछ सुखदायी है
सोच कर
उबाल पर छींटे पड़ जाते
 गुमसुम सी बिछ जाती है
धरती पर ,
धड़धड़ाहट से चैांक उठती है
 घ्ुमंतू पिहये
उसका सीना खोदने लगते है
फावड़ों -गैंितयों से
रोज हलाल होती है
भर भर तगारी
रेज़ा रेज़ा बिखेर दी जाती है
नींव में
निर्माण में
दीवार में
चंचल चपल
 खिलखिलाते कण
बांध दिये जाते हैं
चिनवा देते है
हवेिलयों तले,
सिसकती
कभी कभी वह
रेला बन बह निकलती है
 तकते हुये मकानों
फावड़ों केा
 लेिकन
कभी जब अट्ठाहास करती है तो
 समािहत कर लेती है
बहुत कुछ
अपने में
और
पटक देती है बहुत दूर
 किनारों को भी
ध्किया देती
बहुत पीछे
तट केा भी नद सा कर देती
खेतों को गड्डों में
बेरों को क्रोध से पाट देती है
 भरभराकर
फूटते है फफोले
 मेड़ें बिखर बिखर
घिसट जाती है दूर तक
क्षमा मांगती है
उनकी करतूतों की जो अब
सुख की नींद सो रहे है
------किरण राजपुराेिहत िनितला




बुधवार, 9 सितंबर 2009

MY PHOTOGRAPHY


MY OIL PAINTING


रविवार, 6 सितंबर 2009


कभी कभी मैं----

ििकसी शाम को
बेवजह उदास होने के बजाय
खोल लेती हूं यादों के कपाट
 बैठ जाती हूं अतीत के
अंागन में
झूलते हुए
 बीती बातेां के
झूले में ,
वर्षंेा से बंद दराज में
मिली जुली घटनाओं ताजी खुश्बू
सांसों में भर
छूती हूं
यादांे से सरोबार
उन तस्वीरों केा
जिनमें कैद है
कई कड़वे मीठे चेहरे
कई अनोखी बातें
वे बातें
जिन पर
तब ध्यान ही न गया
था,
और अब
वही
कितनी अच्छी
कितनी भली
कितनी रोचक
कितनी अनोखी
लगने लगी है
कि लगता है
 झट से
किसी से कह कर
उन पर ठहाका
लगाकर आज
जीवंत कर लूं
फिर से!!!!!!!
किरण राजपुरोिहत ििनितला



शुक्रवार, 4 सितंबर 2009

मेरी किवता

.....ऐसा लगता है

आजकल
कुछ कमी सी लगती है
इन कानों केा
इन नथुनों को
 लगता है जैसे
कुछ लगातार
घट रहा है,
धरा को श्राप है
जेा कम होना चाहिये
वह बढ रहा है---
खून खराबा प्रदूशण जहर द्वेश ,
जेा बढना चाहिये
वह घट रहा है
प्रेम षांति विष्वास
....किरण राजपुरोहित नितिला

बुधवार, 2 सितंबर 2009

......ऐसा लगता है

आजकल
कुछ कमी सी लगती है
इन कानों केा
इन नथुनों को
 लगता है जैसे
कुछ लगातार
घट रहा है,
धरा को श्राप है
जेा कम होना चाहिये
वह बढ रहा है---
खून खराबा प्रदूशण जहर द्वेश
जेा बढना चाहिये
वह घट रहा है
प््रेाम षांति विष्वास
....किरण राजपुरोहित नितिला

शनिवार, 29 अगस्त 2009

मेरी कविता

वो ------------
वेा मेरे अंतस में छुपा रहा
मैं दर दर सिर पटकता रहा
सारी उमर यूं मासूम बना
वो मुझे रोज ही ठगता रहा
देखा जब भी प्यार से उधर
अजनबी सा ही तकता रहा
बांटना चाहा दर्द उसके
क्यूं मेरे हाथ झटकता रहा 

म्ेारी सूरत ही है ऐसी
जिंदगी भर ये समझता रहा
देखा सदा मतलब से अपना
मैं बस यही षुक्र मनाता रहा
 साथ मेरे वो मेरा साथी
इन खयालों में भटकता रहा

-किरण राजपुरोहित नितिला


बुधवार, 26 अगस्त 2009

मेरी किवता

विष्वास ये गूंजते रहे 

मुड़े हैं जिंदगियों के पन्ने
वक्त उन्हें उधेड़ता बुनता रहा
दंगाइयों के कहकहे सुन कर
जमीं का बदन हरहराता रहा
                                       
क्यूं है क्या है कौन है??
प्रष्न सदैव पूछते रहे


थका सा सूरज उगा लज्जित सा
और दोपहर तिलमिलाती है
आस्था के आंगन में
तुच्छ रोषनी झिलमिलाती है


यादों के पिछवाड़े में सदा
मोरमन मौन कूकते रहे



किलकारी ही कत्ल न हो
मां हर पल मन्नत यही मांगती
जवानियों के ज्वार न भटके
आषीशें हर रात जागती

बदलेगा इंसान यद
िविष्वास ये गूंजते रहे!!! ----किरण राजपुरोहित नितिला

सोमवार, 24 अगस्त 2009

ऐ ! मेरी कविता 
सपनों को
पंाव दें
ऐ मेरी कविता!
चल तू चलती
उमड़ घुमड़
मन में
कुछ ऐसे
जैसे
कोख में प्राण,
प्राणदायी पीड़ा की
 सुखद अनुभूति में
जिंदगी जी लेने दे
 उस कसमसाहट में
अमृत प्राण बन
उद्घोशित हो
मानसाकाष में रच दे
 ऐसी रेखाओं की बनावट
वे जो
 विचारों
वचनों को
 दे पुख्ता भूमि!

--किरण राजपुरोहित नितिला



शनिवार, 22 अगस्त 2009

बिटिया.............

प्ंखों को जरा लरज़ा बिटिया
बाहर नीला आसमां बिटिया
मेरेे अरमान तेरे दिल में
अब खुली हवा दिखा बिटिया
मौसम अड़चनें देता रहेगा
मुष्किलें से न घबरा बिटिया
आंचल भर भर आषा और आषीश है
करेगा तेरी रक्षा बिटिया
अहंकार उसमें हो कितना ही
तेरे दम से दुनिया बिटिया
देख अपनी जड़ें खोद कर वो
इतरा रहा है कितना बिटिया
बैठा घात लगाए सदियों से
पर तू भी है सबला बिटिया
-किरण राजपुरोहित नितिला

गुरुवार, 20 अगस्त 2009


छू कर मेरे मन को


-हमेषा सच बोलोगे तो ध्यान नही रखना पड़ेगा कि कल क्या बोला था।
-एक सच्चा हदय सारे संसार को विलक्षण षक्तियों से अधिक मूल्यवान है।
-जिस तरह आग से आग नहीं बुझती उसी तरह पाप से पाप खत्म नही होता ।
-बुद्धि के लिये अध्ययन इतना ही आवष्यक है जितना षरीर के लिये व्यायाम।
-कुछ लोग अच्छे अवसर खोर ही महान्बनते है।

बुधवार, 19 अगस्त 2009


लहरें
मिलने केा आतुर
सिर पटक रोती,
निर्मोही धरती
बार बार परे धकेलती
प्यासी आंखेंा से
निहारता रहा चांद!
इठलाती हुई धरा
आगे बढ जाती ,
क्षितिज पर चूमती
आकाष को
वियोगियों को तड़पाती
खुद भी प्यासी रह जाती!
-किरण राजपुरोहित नितिला

मैं छाया हूं!!!
हर एक का रोषनी में साया हूं
सुख में मुझे देखते नही
चेहरा उपर किये
अनदेखी किये जाते है,
पीछा करती हूं फिर भी
रौंदना चाहते है पैरों से
सरकती जाती हूं मैं
साथ सब छोड़ देते है
रहती हूं तब भी मैं
भंगुर से मोह बंधाते हैं
लेकिन चिता मंे भी साथ देती हूं मैं
अंधेरे में न दिखूं
हूं तब भी मैं
अमीर गरीब बूढा जवान
भेद नही तनिक करती मैं
सबका साथ निभाती जाती मैं
सूर्य की सहचरी हूं मैं
सृश्टि के पहले कण से
अस्तित्व में हूं मैं
हर वस्तु
हर अकार प्रकार
हर प्राणी का अभिन्न हूं मैं
सुख दुख में भी समान प्रेम है
प्राणी से,
लेना कुछ नही है मुझे
इस तुच्छ प्राणी से
निस्वार्थिनी हूं मैं !1
सहभागिनी हूं मैं!!
-किरण राजपुरोहित नितिला

रविवार, 2 अगस्त 2009


My Oil Painting

म्ेहनत का सार लघु कथा

एक बार महादेव को दुनिया पर बहुत क्रोध आया। षंख नही बजायेेगंे। महादेव षंख बजायें तो बरसात हो। अकाल पर अकाल पड़ा। पानी की एक बूंद भी नहीं बरसी। दुनिया बहुत कलपी बहुत पा्रयष्चित किया पर महादेव टस से मस नही हुए।
एक बार महादेव और पार्वती आकाष मार्ग से कहीं जा रहे थे। क्या देखते हैं ऐसे भयंकर सूखें में भ्ी एक जाट खेत जोत रहा है । एडी से चोटी तक पसीने सराबोर। भोले बाबा के अचरज का पार नही। बरसात हुए तो जमाना हुआ । फिर यह खेत में क्या कर रहा है? इसका दिमाग तो नही चल गया?
विमान से उतर कर चैधरी के पास गये। पूछा ‘‘ पगले क्यों बेकार मेहनत कर रहा है? सूखी धरती में पसीना बहाने से क्या लाभ! पानी का तो सपना भी दुर्लभ है ’’
चैधरी बोला ‘‘ ठीक कहत हो,पर जोतना भूल न जाउं इस लिए हर साल खेत जोतता हूं। जोतन भूल गया तो पानी बरसा न बरसा बराबर।’’
बात महादेव को भी जंची पर सोचा अरसा हुआ मैंने भी षंख नही बजाया। कहीं बजाना भूल तो नहीं गया?’’

वहीं खड़े खड़े षंख जोर से बजाया और चैफेर घटाएं घुमड़ी । बेहिसाब पानी बरसा।
आभार श्री विजयदान देथा

नियति..........


एक दिन
नियति
अपने नियत काम
छोड़ कर
कुछ बुनने बैठ गई
मखमली सुनहरी डोरी से
मेरा भाग्य लिख
सतरंगे तारें सी चुन्नटें डाल
रेष्मी धागे
से सहला दिया
मेरी छोटी सी मुलायम जिंदगी बुनी
गुलाबी दिन बुने
और
भीनी ख्ुष्बू की फुहार दे
दो घड़ी ठिठक निहरने लगी
सोच तनिक!
छत के बरामदे में कूंची ले खड़े
रंगों के छींटे से
और मोहक लगते
गोरे चिट्रटे लड़के पर फिरा दिया!
-----------किरण राजपुरोति नितिला

शनिवार, 1 अगस्त 2009


स्मृतियों के चलचित्र

स्मृतियों
का किवाड़
थपथपाता है
कभी कभी ये मन
फुर्सत में
अतीत को जीवंत करने
बैठ जाता है ये मन,
ये गहरा मन
दुहराता है
स्मृतियों के
चलचित्र
मानस पट पर उभरते है
वे चेहरे जो
आपधापी में विस्मृत से हेा गये
अब जाने क्यूं
याद आकर
भले भले से लगते
अपनापन लिये हुये,
लगता!
इन्हें इस तरह
बीत जाना जान कर
मुठ्रठी में भींच कर
क्यूं न रख लिया,
बचपन का हर पल
याद भले नहीं
लेकिन कई चेहरे
अब याद कर कर के
एक प्रष्न के
सटीक उत्तर की भांति
रटे जा चुके हैं,
जब चाहा
मानस में आकर
बैठ जाते हैं वे
और यादों की
नटखट खिड़कियां
खुल खुल जाती है
वर्षों पुरानी
सुगंधित हवा
नथुनों में
तैरती सी लगती है
फिर से जानी पहचानी
और पुराने चलचित्र
लड़खड़ा कर संभलने लगते है!!!!!
.........किरण राजपुरोहित नितिला

शनिवार, 18 जुलाई 2009


झिलमिल रात

चंाद ने मुस्करा कर 
तारों ने झिलमिला कर
 खिलखिलाकर 
रात का स्वागत किया 
चांद तारे अैार रात 
मिल कर गुनगुनाने लगे 
चांदनी की लय पर 
धरती झूमने लगी 
रात रानी महकने लगी 
नन्हे तारों से 
झिलमिल हुई धरती 
जुगनु से चमकती 
दमकती चूनर ओढ़ 
यामिनी चली
 ठुनक ठुनक 
हौले हौले 
गगन ने गवाक्ष से 
झुक झुक चुपके से झांका 
तेा रोका !
घड़ी पलक ठहर जाओ 
घन का घनन घनन 
 गान सुनती जाओ! 
-किरण राजपुरोहित नितिला

बुधवार, 15 जुलाई 2009


तुमको मैंने!!!!़़़़़़़़़़़़़़़़़............

दुनिया की भीड़ में
जब भी अकेली हुई मैं
साथी बना पाया तुमको,
अंधेरी रात में एकाकी हुई
चांद बने पाया तुमको,
चिलचिलाती धूप ने झुलसाया
छांव बने पाया तुमको !!!
सावन की तपन ने घेरा
रिमझिम बरसे पाया तुमको !
गीत लिखा जब भी कोई
कलम ने हर बार गाया तुमको
सितार हुआ मिजराब से झंकृत
हर सुर में पाया तुमको
बंद बांखों की खिड़की से झांका
अपने ही भीतर पाया तुमको!!!!!!!!!!!
...........ििकरण राजपुरोिहत ििनितला

रविवार, 12 जुलाई 2009


छू कर मेरे मन को




एक घंटे की खुशी के लिये झपकी लें।

एक दिन की खुशी के लिये पिकनिक पर जायें।

एक महीने की खुशी के लिये शादी कर लें।

एक साल की खुशी के लिये विरासत में संपत्ति पायें।

जिंदगी भर की की खुशी के लिये किसी अनजान की मदद कीजिये।
-------- चीनी कहावत

शुक्रवार, 10 जुलाई 2009

किवता



प्रियतम तुम......................

जबसे हुये हो 
तुम 
दृष्टि से ओझल 
इन नैनों में बस गये हो, 
 पलकों केा क्यूं झपकाउं मैं
 स्वपन में भी बसे हो 
तुम 
हाथ छुड़ा कर गये जिस पल  
 और गहरे उतर गये हो 
तुम
 हलचल सी हेाती है 
तन मन में 
 अपने खयालों में मुझे
जब
छूते हो हौले से,
मुझे न सही 
मेरी तस्वीर ही देख लो 
ये सूजी आंखें 
पुकारेंगी तुम्ही को 
रोम रोम की यही पुकार है 
एक बार आ जाओ तुम 
चांदनी में चांद को 
मैं देखूंगी 
उसी पल 
देखना तुम
मेरी व्यथा वही कहेगा तुमसे 
समझना तुम 
और कुछ कहना तुम..............
  किरण राजपुरोहित नितिला

छू कर मेरे मन को

-जब भी कोई फल खाऐं उस पेड़ को रोपने वाले व्यक्ति के बारे में सोचें, उस पेड़ के बारे में सोचें जिस पर वह फल पका है।

-जेा व्यक्ति छोटी छोटी खुशियों के लिए शुक्रिया आदा नहीं करता उसे बड़ी खुशियां कभी नही मिलती।
 
-कृतज्ञ हदय में निराशा के बीज कभी प्रस्फुटित नही होते। 

मंगलवार, 7 जुलाई 2009



पिताजी अंटी में

लघु कथा



  बनिये का बच्चा दस बरस की उम्र के बराबर अकल साथ ले कर जनमता है। बोलना सीखता है तब तक तो अकल उसके पांवों में लोटने लगती है। एक बनिये के एक ऐसा ही होशियार बेटा था। सातवें बरस तो वह बेखटके दुकान का सारा काम करने लगा कम तौलना, कम नापना और झूठ बोलना । पिता को जब पूरा भरोसा हो गया तो वह सारे दिन वसूली करने लगा। दुकान की देहरी पर भी नहीं चढता था। लोगबाग बच्चे को ठगने की सोच कर आते पर ख्ुाद ठग जाते थे। फिर भी मजाल है जो पता चल जाये। 
एक दिन एक जाट सौदा सुलुफ के लिए आया। छोरे को अंगुली से दिखा कर बोला  
‘‘एक रुपये का मालवी गुड़ तौल दे।’’ 
जाट ने सोचा मांगेगा तो रुपया दे दूंगा नहीं तो उधार है ही । छोरे ने सोचा सबेरे सबेरे कौन उधार करे ! नकदनारायण का आसामी नहीं देख कर छोरे ने कहा ‘‘पिताजी वसूली पर गये है। सांझ को आयेगें । मुझे भाव मालूम नहीं।’’
 छोरे की होशियारी देख कर जाट को गुस्सा आ गया। झट से रुपया निकाल कर कहा 
‘‘पिताजी मेरी अंटी में है। यह ले!’’ यह कर उस ने रुपया उस की ओर उछाल दिया। कहा, ‘‘अब फुरती से तौलता हुआ नजर आ!’’
 --------- विजयदान देथा

रविवार, 5 जुलाई 2009


छू कर मेरे मन को

-किसी भी व्यक्ति के लिये स्वयं केा खुद की ही बेड़ियों से आजाद कर पाना सबसे कठिन होता है। ऐसा नही होता तो शराब व सिगरेट की कंपनियां कब की बंद हो चुकी होती ।

-हम जब से जन्म लेते है तब से ही मां बाप के जीवन का लक्ष्य बन जाते है। उनके सपनों की सूची में हमारी सफलता सबसे उपर होती है और वे इसके लिये जी जान से मेहनत करते है। हम ये सब इसलिये नही समझ पाते क्यों कि हम इस अनुभव से नही गुजरे होते है।

-हमारे माता पिता की किसी मामले में गलत होने की संभावना हमसे बहुत कम होती है क्योंकि वे दुनिया को हमसे बेहतर तरीके से समझते है।

-जिंदगी की रफतार इतनी तेज न होने दें कि किसी की मदद की गुहार भी आप तक न पहंुच सके।

मंगलवार, 30 जून 2009

लोक कथा


सौ का भाई साठ- राजस्थानी लोक कथा
   
एक बनिया एक जाट में सौ रुपये मांगता था। जाट की साख् अच्छी नहीं थी। बस चलते लिया हुआ रुपया वापस नहीं देता था। हर बार कोई न कोई बहाना गढ लेता था। एक बार बनिये ने ज्यादा तकाजा किया तो जाट ने कहा 
‘‘बही ले कर घर आ जाना। आज हिसाब साफ कर दूंगा।बहुत दिन हुए आप को चक्कर लगाते हुए।’’
 सेठ खुशी खुशी बही ले कर उस के घर गया। सोचा,आज चैधरी को जब्बर सुमत सूझी !सनकी के जंच गयी सो भली। जाट ने सेठ के पास खड़े होकर कहा ‘‘क्यों सेठजी मेरे खाते में सौ रुपये बेालते है न?आज एक एक पाई चुका देता हूं। देखो ठीक से हिसाब साफ करना ।’’
फिर अंगुलियों पर जोड़ बाकी करते हुए बोला
‘‘सौ का भाई साठ 
आधे गये भाग 
दस दूंगा दस दिलाउंगा 
और दस का क्या लेना देना 
बोलो हिसाब साफ हुआ कि नहीं ?चलो अब बच्चों का मुंह मीठा कराअेा बहुत दिनो बाद वसूली हुई है।’’
 यह सुन कर बनिये से भी हंसे बिना नहीं रहा गया। जाट का एक छोरा पास हीे खड़ा था। बोला ‘‘क्यों काका आज सेठजी बहुत खुुुुुुुुश दिख रहे है।’’ जाट ने कहा ‘‘आज खुश नही होगें तो कब होगें पूरे सौ रुपयोें का हिसाब साफ किया है। अब भी तेरा मुंह मीठा नहीं कराये तेा इन की मरजी।’’
-------श्री विजयदान देथा के संकलन ‘चैधराइन की चतुराइ’ से।

सोमवार, 29 जून 2009



मुस्कान 


-दुनिया भर के आंकड़े मुस्कान की कीमत नहीं माप सकते।
-सारी दुनिया एक ही भाषा में मुस्कुराती है।
-ऐसा कोई चेहरा नही जो मुस्कुराने पर खूबसूरत नहीं दिखता।
-मुस्कान आपके चेहरे के झरोखे की तरह होती है जो कहती है कि आप घर पर है।
-किसी अजनबी को अपनी एक मुस्कान दीजिये। हो सकता है कि दिन भर में उसे मिलने वाला यह एकमात्र उजाला हेा।

??????????????

उत्तर ही हुये जब 
प्रश्न से गुत्थम गुत्था क्या खोजें? 
चांदनी ही झुलसाये 
कंांेपल को
 तब क्या प्रखर धूप को इल्जाम दें ?
सुबह उदास सी जगे
 थकी सांझ को क्या बजें? 
रिश्तों की चुभन ही क्या कम थी?
जो अब गीत भी चुभें 
दूरी ही आततायी बनी 
और कहते हो न आयंे तो? 
जीवन के झंझावत क्या कम थे 
मौसम के थपेड़े आ आ टकराये 
मन के दावानल में झुलसा तन 
क्या गुहार लगाये, 
भीतर का प्रश्न ही दुबक गया तो 
उत्तर किसको गले लगाये? 
बिन भाव के 
उत्तर कब तक लंगड़ाये?
 बिचैलिया आ आ गांठ लगाये
 प्रश्न हुये अनुत्तरित से 
मौन ने साधा अगणित रोष 
भटके भाव 
ढूंढ लिये 
तमाम रस
 शब्द शब्द 
 कोश कोश 
अब गूंगी भाषा क्या कहे?

---किरण राजपुरोहित नितिला

रविवार, 28 जून 2009



हर स्त्री की उम्मीद


तब तक
 यह समय नही रहेगा
 समय बदल जायेगा 
हमेशा ऐसे ही थोड़ी रहेगा !!
तब बेटियों की कद्र होगी 
रिवाज बदल जायेगें 
रीतियां बदल जायेगी 
कुरीतियां तो 
समूल नष्ट हो जायेगी 
बहुत अधिक सम्मान
 दिया जायेगा 
बेटे बेटियों में 
तनिक न फर्क रहेगा
जन्मते ही बिटिया को 
खौलते कड़ाह में या
अफीम न सुंघाया जायेगा,
भैंाडापन छिछोरापन की तो 
बू न रहेगी 
समाज में हर लड़की 
गाजे बाजे से ब्याहेगी 
उसे सांझ ढले 
पाउडर क्रीम थोपकर 
चैखट पर खड़े हेाकर
 किसी पुरुष को इशारे से
 भीतर न बुलाना पड़ेगा,
 तब पिता भाइ,
 बहन बेटी को बेफिक्र होकर
 काॅलेज भेज सकेगें
भीड़ में 
यहां वहां हाथ न धरे जायेगें 
बेटियंा बोझ न होंगी 
जवान होती बेटी के पिता को 
जूतियां न घिसनी पड़ेगी।

पूरा घूंघट निकाले 
घर का काम निबटा 
ड्योढी में बैठी चरखा कातती 
औरतें उसांस लेकर 
धीमे धीमे बतियाती रहती थी
भरी दुपहरी,
तालाब के तीर दम भर विश्राम करती
बतियाती रहती थी,
हमेशा ऐसे ही नही रहेगा 
हम जैसी तकलीफें 
हमारी लड़कियों को नही उठानी पडे़गी 
तब लड़कियां हंसते हंसते ससुराल जायेगी 
दहेज के ताने नही सुनने पड़ेगें 
वह युग तो कुछ और ही होगा ,
 ऐसा ही है?????

-किरण राजपुरोहित नितिला

बुधवार, 10 जून 2009


छू कर मेरे मन को


-जैसे हीरा रोशनी के सामने चमक उठता है ठीक वैसे ही मनुष्य पुस्तकों के संपर्क में आकर ज्ञान का पुंज बन सकता है।

-संभावनाओं को अच्छाई में बदलने के लिये हमेशा जोखिम उठाना पड़ता है।

-कोई व्यक्ति जिस हद तक जोखिम से बचना चाहता है उसी हद तक वह डरा होता है।

-असफलता की आशंका के चलते काम टालने से डर और ताकतवर बनता है।

मंगलवार, 9 जून 2009





 बेटे की दावत है ..............

एक कोने में 
खड़ा हूं 
मैं 
लिपे पुते चेहरों को 
पर्दे के कोने से देख रहा हूं 
मैं  
मेहमानों की भीड़ से दूर
 बेजरुरत का सामान हूं 
मैं 
बेटे को दुनिया में लाया
 लेकिन आज 
परिचय की चीज 
नहीं हूं 
मैं
पोपले मुंह का लड़खड़ता बूढ़ा 
देास्तांे में उसके 
शरम की चीज हूं 
मैं ,
रह रह याद आती है
 मां की पनीली आंखें !!
छोड़ आया था  
एक आशा देकर 
शहर की अंधी दौड़ में,
 सुनकर न सुना 
 उन्हीं आहों की सजा पाता हूं
मैं!!!!
 किरण राजपुरोहित नितिला

रविवार, 7 जून 2009

छू कर मेरे मन को